BB की लाइन्स

BB की लाइन्स

कुछ साल पहले एक फ़िल्म आयी थी—डेढ़ इश्किया। वैसे बॉक्स आफिस पर फ़िल्म तो कुछ खास नहीं कर पायी, पर इस फिल्म में कुछ सीन्स ऐसे थे जो रूह को छू गये। वो दिलकश दृश्य ज़हन में आज भी तरो-ताजा हैं। गुस्ताख़ी माफ़ हो, पर मैं कोई बोल्ड सीन का ज़िक्र नहीं कर रहा जो…

Read more BB की लाइन्स

अंतर्क्लबीय राजनीति

अंतर्क्लबीय राजनीति

पहली प्रस्तावना: मैं अक्सर कहता हूँ कि श्रीकृष्ण एक अच्छे राजनीतिज्ञ थे. यहाँ तक कि उन्होंने ‘फूट डालो, आराम से रहो’ की नीति अपनाई. कौरवों और पांडवों को आपस में लड़ाकर एक पक्ष का साथ दिया और हस्तिनापुर राज्य के पड़ोस में ही द्वारका बसाकर चैन की बंशी बजाने लगे. मथुरा से भाग आये थे…

Read more अंतर्क्लबीय राजनीति

एक पत्र मृत्यु के नाम

एक पत्र मृत्यु के नाम

प्रिय मृत्यु! आख़िरकार तुम आ ही गयीं! जिस चीज़ का डर था वो हो ही गया।अब इससे पहले कि तुम मुझे अपनी बाँहों के आग़ोश में लेकर मेरे होंठों को सदा के लिए चूम लो, मैं कुछ स्वीकार करना चाहता हूँ, तुम्हारी सहेली ज़िन्दगी के बारे में। हमारा प्रेम-प्रसंग चल रहा था, सालों से! तुमने…

Read more एक पत्र मृत्यु के नाम

ख़त

ख़त

  मेरे प्यारे भगवान्, मेरे निराले भगवान्। मेरी तमाम खुशियों के लिए शुक्रिया।हाँ, आप ही को ख़त लिख रहा हूँ। कुछ कहना है आपसे। क्यों कह रहा हूँ, जानते हैं? मैंने यह महसूस किया है कि जब दर्द को शब्द का लिबास मिल जाता है, तो वह थोड़ा कम हो जाता है। मैं जानता हूँ…

Read more ख़त

रिज़ल्ट का हौवा

रिज़ल्ट का हौवा

29 मई, 2018, हाँ, यही शुभ दिन था जब घर की चिराग कुसुम बेटी की धड़कनें तेज़ हुई जा रही थीं। मन के किसी कोने में उत्साह को दबाये, वो अपनी व्याकुलता का पूरे घर में खुलेआम प्रदर्शन कर रही थी। सूरज सर पे आने लगा था, 11 बज चुके थे परंतु अभी तक माताश्री…

Read more रिज़ल्ट का हौवा

एक सुन्दर पहल

एक सुन्दर पहल

  शिक्षा में एक छोटा सा बदलाव पीढ़ियाँ बदल देती है। पर भारत में ज़्यादातर अशिक्षित लोग आर्थिक कारणों से स्कूल छोड़ देते हैं और ज़ाहिर है कि स्कूल छूटने के बाद पढ़ाई भी छूट जाती है। वहीं वक़्त की माँग कुछ ऐसी है कि शहरों में रिक्शा चालक से लेकर छोटे-छोटे काम करने वालों…

Read more एक सुन्दर पहल

एक नया विहान

एक नया विहान

बड़ी खुशी की बात है कि साहित्य सभा, आई.आई.टी.(बी.एच.यू.) ने अपना यह ब्लाॅग शुरु किया है। हिन्दी और अंग्रेज़ी भाषाओं में कहानी, कविता, निबंध, साहित्यिक आलोचना, फिल्म समीक्षा, संस्मरण, यात्रा-वृत्तांत, इत्यादि के रूप में हमारी रोचिभूषित रचनाओं का हर वक़्त आपको इंतज़ार रहे, यही इस ब्लॉग का हासिल होगा। आपको हमारी सभा के अजस्र-शब्द-वृष्टि-निरत सारे…

Read more एक नया विहान