BB की लाइन्स

BB की लाइन्स

कुछ साल पहले एक फ़िल्म आयी थी—डेढ़ इश्किया। वैसे बॉक्स आफिस पर फ़िल्म तो कुछ खास नहीं कर पायी, पर इस फिल्म में कुछ सीन्स ऐसे थे जो रूह को छू गये। वो दिलकश दृश्य ज़हन में आज भी तरो-ताजा हैं। गुस्ताख़ी माफ़ हो, पर मैं कोई बोल्ड सीन का ज़िक्र नहीं कर रहा जो…

Read more BB की लाइन्स

The लफ्ज़ Flux

The लफ्ज़ Flux

बुखार था वीज्ञान का, इंजीनरिंग सिखने लगे, ले सॉफ्टी पी. सी. व एम कि, साहित्य छिकने लगे। मशीन अब भरम, अभिराम शब्द में मिलने लगे, न सी न जावा, कोड भि तुकबंद हम लिखने लगे। न फ़ारमूला, अब ज़ेहन में शायरी टिकने लगे, गणित कहाँ, हम मेहबूबजान को लिखने लगे। शिखर जभी हिलने लगे, कली…

Read more The लफ्ज़ Flux