साथ उसके लौटा दे हसीन शाम वही.

फिर याद आया कि गुफ़्तगू तस्वीरों का काम नहीं.

—शर्मिष्ठा बाग़

Like & Share this post

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *