मेरी मिन्नतों, औ’ तेरी ज़िल्लतों ने बर्बाद कर दिया,
मेरी मिन्नतों, औ’ तेरी ज़िल्लतों ने बर्बाद कर दिया;
धड़कन थी तुम, मेरी धड़कन थी तुम,
जाओ दिल से ही आज़ाद कर दिया.
– तनय केडिया

 

Like & Share this post

About Tanay Kedia

मैं शायर तो नहीं, but your curvy brows infused poesy.

Leave a comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *